स्वदेसी आंदोलन की सच्चाई |

0

क्या आप जानते हैं स्वदेसी आंदोलन की शरुआत करने वाले
वीर सावरकर थे

veer_savarkar
और उस वक्त उसका विरोध करने वाला नेहरू का गुलाम गांधी था
1905
विनायक दामोदर सावरकर गद्दार है-कांग्रेस ने ट्वीटर पर कहा.
*************************************
बड़े ही दुःख और आश्चर्य की बात है जिन्होंने पुरे स्वतन्त्रता संग्राम के दौरान अंग्रेजो के तलुवे चाटे , सत्ता के लालच में हिंदुस्तान के दो टुकड़े सहमति दी हो ….अपने ही लोगो को मरवाने का घृणित कार्य किया ……… ऐसी देश द्रोही पार्टी जिसकी सत्ता में रहते हुए लाल बहादुर शास्त्री जैसे प्रधानमन्त्री की मृत्यु का रहस्य आज तक सामने नहीं आ पाया….
ऐसी षड्यंत्र कारी पार्टी वीर सावरकर जैसे सच्चे और महान देशभक्त को गद्दार कह रही है?
असल में एक घटना से सावरकर जी की महानता और इस गांधी का खोखलापन उजागर होता है……………………देश में जब अंग्रेजो का अत्याचार चरम पर था तब सन 1905 में मात्र 22 वर्ष के एक महाराष्ट्रियन ने अंग्रेजो के विरूद्ध विदेशी कपड़ो की होली जलाने का आव्हान किया तब इस डरपोंक गांधी इसे हिंसक आंदोलन का नाम देकर इससे किनारा कर लिया लेकिन इसी गांधी ने सन् 1921 में इसी आंदोलन को शुरू किया और श्रेय ले लिया उस समय गांधी 52 साल का था
यानी कहने का तात्पर्य देश के लिए जो जूनून और जज्बा सावरकर जी में मात्र 22 वर्ष की उम्र में था उसे गांधी में जागृत होने में 52 साल लग गए…!!!

LEAVE A REPLY