Credit Card kya hota hai – क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये

6
Credit Card kya hota hai
Credit Card kya hota hai

आज हम यहाँ Credit Card kya hota hai, credit card information in hindi , क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये की पूरी जानकारी Hindi में आपके साथ share करेंगे | तो आइये जानते है what is credit card in hindi.

Credit Card kya hota hai

क्रेडिट कार्ड प्लास्टिक का एक ऐसा कार्ड है जिसका प्रयोग आप किसी दुकान का बिल, ऑनलाइन खरीददारी, money transfer और ATM में से नकद पैसे निकलवाने के लिए इस्तेमाल कर सकते है. क्रेडिट कार्ड को Cash Advance और Cash Withdrawal भी कहा जाता है. क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल आप न सिर्फ अपने देश में बल्कि बाहर विदेश में भी कर सकते हो.

क्रेडिट कार्ड की सुविधा बैंक द्वारा दी जाती है. जिसमें आपको कुछ धन राशि की सीमा उधार के रूप में दी जाती है. तो जब आपको किसी चीज के लिए भुगतान करना होता है तो आपको उसे नकद पैसे नही देने होते बल्कि आप आने क्रेडिट कार्ड के जरिये उसकी राशी का भुगतान कर सकते हो. आपके कार्ड की धन राशि की सीमा ही आपकी अंतिम राशि सीमा होती है और आपको हमेशा कुछ ना कुछ राशि अपने क्रेडिट कार्ड में बचा कर रखनी चाहियें. जब आप भुगतान करते हैं,तो आप खर्च की गई रकम और ब्याज वापस लौटा रहे होते हैं.

Credit Card kya hota hai
Credit Card kya hota hai

क्रेडिट कार्ड कैसे बनवाये ( Apply for Credit Card ) :

यदि आप क्रेडिट कार्ड बनवाना चाहते है और आप एक आम नागरिक है तो भी आप अपना क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन  सकते है | क्रेडिट कार्ड बनवाने के तीन तरीके होते है. आइये जानते है क्रेडिट कार्ड के लिए आवेदन कैसे करें

1.       नौकरी वालें ( Employed ) : अगर आप किसी सरकारी पद पर या किसी अच्छी कंपनी में अच्छे पद पर है तो आप अपनी आय की रसीद को लेकर बैंक जाकर या फिर ऑनलाइन आवेदन करें. आपकी मासिक आय की सीमा ही आपके क्रेडिट कार्ड की धन राशी की सीमा को निर्धारित करता है. क्रेडिट कार्ड बनवाने का ये तरीका सबसे सरल और सहज है.

2.       स्वरोजगार वाले ( Self Employed ) : वे व्यक्ति जो अपना खुद का कोई व्यापर करते है तो वे लोग बैंक जाकर अपने व्यापार के बारे में सारी जानकारी दें और अपनी प्रतिमाह की आय के बारे में बतायें. इसके लिए आपको इनकम टैक्स रिटर्न की रसीद भी दिखानी पड सकती है. इन्ही दो चीजो को आधार मानकर बैंक आपके क्रेडिट कार्ड के आवेदन को स्वीकार करता है और कार्ड की धन राशी की अधिकतम सीमा को निर्धारित करता है.

3.      यदि नौकरी वालें / स्वरोजगार वाले दोनो ही ना हो तो  : तो भी एक तरीका है जिसको अपनाकर आप भी क्रेडिट कार्ड बनवा सकते हो. इसके लिए आपको किसी बैंक में अपना खाता खुलवाना होता है. खाता खुलवाने के बाद अपने अकाउंट में एक निर्धारित राशि की FD अर्थात फिक्स डिपाजिट करा दें. आपका ये फिक्स डिपाजिट आपकी जमा राशि और गारंटी में रूप में बैंक के पास रहता है और इसी के आधार पर आपको क्रेडिट कार्ड की सुविधा दी जाती है. साथ ही FD की राशि के आधार पर ही क्रेडिट कार्ड की सीमा का निर्धारण किया जाता है.

क्रेडिट कार्ड के प्रकार / Types Of Credit Card

credit card तीन प्रकार के होते है जो मई आपको नीचे सरल तरीके से बताऊंगा

साधारण उद्धेश्य क्रेडिट कार्ड (Revolving Credit Card)

ये credit card कहीं भी,किसी भी चीज के लिये,कपड़ों से लेकर भोजन, उड़ान के लिये खर्च करने हेतु प्रयोग किये जा सकते हैं।

स्टोर कार्ड (store card )

ये कार्ड किसी विशेष स्टोर या स्टोरों के समूह में ही,या विशेष उद्धेश्य के लिये ही प्रयोग किये जा सकते हैं। डिपार्टमेंट स्टोर कार्ड या अधिकांश आपके पसंदीदा कपड़े के स्टोरों के कार्ड इसके उदाहरण हैं। इस प्रकार के कार्ड पर ब्याज की दर काफी अधिक होती है।

परंपरागत चार्ज कार्ड

चार्ज कार्ड में आपको खरीददारी या सेवाओं के लिये सारी रकम एक निश्चित समय में वापस कर देनी होती है। सामान्यतः इस प्रकार के क्रेडिट के लिये कोई ब्याज नहीं देना होता है,लेकिन आपको पूरा बकाया हर महीने भर देना पड़ता है। चार्ज कार्ड को ट्रैवल एंड एंटरटेनमेंट कार्ड भी कहा जाता है—कुछ उदाहरण हैं,अमेरिकन एक्सप्रेस और डाइनर्स क्लब चार्ज कार्ड।

India Me कौन सी बैंकें credit card offer करती है

वैसे तो सभी बड़े बड़े बैंक क्रेडिट कार्ड ऑफर करती हे, यहाँ में आपको कुछ प्रमुख बैंकों के नाम बताता हूँ जो credit card प्रदान करती हैं.

State bank of India, Bank of Baroda, Bank of India, Canara Bank, PNB Indian overseas Bank, Corporation Bank, Union Bank, Hdfc Bank, Icici Bank, kotak Bank, indusind Bank, Axis Bank, Hsbc, Syndicate Bank ,vijaya Bank

क्रेडिट कार्ड के लाभ :

  • आपको कही नकद पैसे लेकर नही जाने पड़ते.
  • आप ऑनलाइन शोपिंग कर सकते हो, साथ ही आपको क्रेडिट कार्ड से खरीदारी पर अधिक बचत या डिस्काउंट भी दिया जाता है.
  • आप अपने सारे खर्चों को एक मासिक भुगतान में एकीकृत कर सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड के नुकसान :

  • यदि आप अपने कार्ड खाते का संचालन सही तरीके से नहीं करते हों तो आपको ओवर-लिमिट या लेट फीस लग सकती है।
  • देर से भुगतान करने या ओवर लिमिट आपके क्रेडिट स्कोर पर बुरा असर डाल सकते हैं।
  • क्रेडिट कार्ड देते वक़्त कहा जाता है कि क्रेडिट कार्ड पर जीरो EMI है किन्तु ये नही बताया जाता जीरो प्रतिशत ब्याज पर EMI की कुछ नियम और शर्ते लागू होती है.
  • आज कल ऑनलाइन क्रेडिट कार्ड के frauds  बहुत ही बढ़ गए हे इसलिए कार्ड का प्रयोग सावधानी से करे.

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY