Emotional Love Shayari In Hindi For Girlfriend/Boyfriend

0
emotional shayari in hindi
emotional shayari in hindi

Emotional Shayari In Hindi :प्यार मोहब्बत में सबसे ज्यादा जोर emotion का रहता है. उन्हीं जज्बातों को बयां करने के लिए लोगो के दिल से Shayari निकल आती है किसी ने खूब कहा है ” हैरान हूँ मैं भी अब तो इस ग़म की ज़्यादती से, हर आह चाहती है के शेर बन के निकले”. इन्ही जज्बातों को आपके बीच लेकर आया हूँ बस जरा हौले से दिल को थाम के पढना कहीं आँख के किसी कोने से ये जज्बात बहार न निकल आये. तो शुरू करते है प्यार मोहब्बत की Emotional Shayari In Hindi

Emotional Shayari In Hindi :

तूने चाहा नहीं हालात बदल सकते थे
मेरे आंसू तेरी आँखों से निकल सकते थे

तुमने अल्फाज की तासीर को परखा ही नहीं
नर्म लहजे से तो पत्थर भी पिघल सकते थे

तुम तो ठहरे ही रहे झील के पानी की तरह
दरिया बनते तो बहुत दूर निकल सकते थे

क्यूँ बताते उन्हें सच्चाई हमारे रहबर
झूठे वादों से भी जो लोग पिघल सकते थे

होठ सी लेना ही बेहतर था किसी का
लबकुशाई से कई नाम उछल सकते थे

क़त्ल इन्साफ का होता है जहाँ शामो-सहर
ऐसे माहौल में हम किस तरह ढल सकते थे

डर गए हैं जो हवाओं के कसीदे सुनकर
वो दिए तुमने जलाये नहीं, जल सकते थे

हादसे इतने जियादा थे वतन में अपने
खून से छप के भी अख़बार निकल सकते थे

Emotional Shayari In Hindi :

जुगनू ही दीवाने निकले
अँधियारा झुठलाने निकले

ऊँचे लोग सयाने निकले
महलों में तहख़ाने निकले

वो तो सबकी ही ज़द में था
किसके ठीक निशाने निकले

आहों का अंदाज नया था
लेकिन ज़ख़्म पुराने निकले

जिनको पकड़ा हाथ समझकर
वो केवल दस्ताने निकले

कभी आ के चुपके से सौगात रख दे : Emotional Shayari In Hindi

कभी आ के चुपके से सौगात रख दे
धड़कते हुए दिल पे तू हाथ रख दे।सफ़र काट लूँगा मैं इस ज़िन्दगी का
ज़रा सी मुहब्बत मेरे साथ रख दे।

थकन ओढ़ ली उम्र भर की है मैंने
कोई आ के आँखों में अब रात रख दे।

मैं पत्थर सा होने लगा पत्थरों में
मेरे दिल में तू चंद जज़्बात रख दे।

यूं लगने लगेगा सफ़र मुझको आसां
ज़रा दूर तक हाथ में हाथ रख दे।

शजर जिस्म का तू सुलगने से पहले
मेरी ख़ुश्क आँखों में बरसात रख दे।

Emotional Shayari In Hindi

गुज़रता है मेरा हर दिन मगर पूरा नहीं होता
मैं चलता जा रहा हूँ और सफ़र पूरा नहीं होता

लगाना बाग़ तो उसमें मुहब्बत भी ज़रा रखना
परिंदों के बिना कोई शजर पूरा नहीं होता

ख़ुदा भी ख़ूब है भगवान की मूरत भी सुन्दर है
मगर जब माँ नहीं होती तो घर पूरा नहीं होता

वो चोटी की बनावट हो कि टोपी की सजावट हो
बिना इन्सानियत के कोई सर पूरा नहीं होता

ये मेरा ख़ालीपन है जो मुझे सैराब करता है
उधर रहता हूँ मैं ख़ुद में जिधर पूरा नहीं होता

हम ने काटी है तेरी याद में रातें अक्सर : Emotional Shayari

हम ने काटी हैं तेरी याद में रातें अक्सर
दिल से गुज़री हैं सितारों की बरातें अक्सर

और तो कौन है जो मुझ को तसल्ली देता
हाथ रख देती हैं दिल पर तिरी बातें अक्सर

हम से इक बार भी जीता है न जीतेगा कोई
वो तो हम जान के खा लेते हैं मातें अक्सर

उन से पूछो कभी चेहरे भी पढ़े हैं तुम ने
जो किताबों की किया करते हैं बातें अक्सर

हम ने उन तेज हवाओं में जलाए हैं चराग़
जिन हवाओं ने उलट दी हैं बिसातें अक्सर

  1. आँखों में बसाकर रखा है उन्हें …!!
    जिनका नाम लकीरों में है ही नहीं …!!
  2. कुछ मंजिलों को मुकाम नहीं होते
    कुछ रिश्तों के नाम नहीं होते
    पता होते कुछ सवालों के जवाब
    तो सब इतने परेशान न होते ||

LEAVE A REPLY