FaceApp क्या है Download करने से पहले जाने इसके नुकसान

faceapp kya hai download karna hai
faceapp kya hai download karna hai

दोस्तों हमारे आज का विषय है FaceApp Android App के बारे में. FaceApp एक बहुत ही ज्यादा पोपुलर photo banane wala app है जो बहुत ही ज्यादा वायरल है. हम में से बहुत सारे लोग फेस ऐप का प्रयोग करते हैं और बहुत सारे लोग ऐसे भी हैं जिनको अभी तक FaceApp के बारे में बहुत ज्यादा जानकारी है. आज के इस लेख में मैं आपको बताऊंगा FaceApp kya hai और साथ ही साथ यह भी जानेगे कि FaceApp हमारी सिक्योरिटी के लिए कितना खतरनाक है.

हम लोग बहुत सारी एंड्रॉयड एप्लीकेशंस का प्रयोग करते हैं चाहे वह एजुकेशन, इंटरटेनमेंट, business, gaming से रिलेटेड हो या फिर किसी भी क्षेत्र से संबंधित हो. इनमे से कुछ ऐसी भी Android App है जो हमारी सिक्योरिटी के साथ में खिलवाड़ करते हैं और हमारे डाटा का गलत इस्तेमाल करते हैं.

FaceApp kya hai :

FaceApp एक ऐसा मोबाइल एप्लीकेशन है जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग पर आपकी तस्वीर को उम्र के हिसाब से बदल देता है इससे जान सकते हैं कि उम्र ढलने के बाद आप किस तरह से दिखाई देंगे इतना ही नहीं यदि आप की उम्र ज्यादा है तो इस ऐप के फीचर से आप अपनी युवा दिनों की तस्वीर भी बना सकते हैं. इसके साथ यहां पर फोटो फिल्टर के कई और दूसरे विकल्प भी उपलब्ध हैं. इसमें फेस कट से लेकर दाढ़ी, मूछ हेयर स्टाइल, मेकअप और बैकग्राउंड भी बदल सकते हैं. इसमें उम्र के हिसाब से जब तस्वीरों को बदलते हैं तो यह वास्तविक जैसा लगता है.

एडिटेड फोटो देखने के बाद आप भी कहेंगे कि हां उम्र ढलने के बाद शायद ऐसा ही दिखाई देगा. तकनीकी भाषा में इस photo editing को more thing भी कहा जाता है यह मशीन लर्निंग का उपयोग कर तस्वीरों को Age effect के अनुसार बदल देता है इसमें मशीन से चेहरे की कुछ नोड्स को मार्फिक कर उन्हीं के अनुसार बढ़ती उम्र को दिखाने के लिए थोड़ी झुर्रियां डाल देता है. इसके अलावा बाल को age के हिसाब से सफ़ेद कर देता है जिससे तस्वीर वास्तविक लगे. यह जितना आसान लगता है उतना होता नहीं है. मशीन में ढेर सारा डाटा होता है जो काम करता है और इसके बाद तस्वीर तैयार हो जाती है.

FaceApp secure क्यूँ नहीं है:

FaceApp बहुत सारे डेटा का उपयोग कर हमारी तस्वीर तैयार करता है और यह डाटा कहीं और से नहीं बल्कि हम से ही लेता है. जब आप FaceApp ऐप को इंस्टॉल करते हैं तो यह आपसे फोटो और गैलरी एक्सेस की अनुमति मांगता है वैसे तो सभी फोटो एडिटिंग ऐप में इस तरह की एक्सेस मांगी जाती हैं लेकिन इस ऐप में अन्य apps कई तुलना में कहीं ज्यादा अनुमति मांगी जाती है. आप से इसकी अनुमति ली जाती है कि फोटो को एप डेवलपर के सर्वर पर अपलोड किया जाएगा और यही दिक्कतों कि जड़ है. इस ऐप पर सुरक्षा को लेकर और भी कई चिंताएं सामने आई हैं जिसमें यूजर्स के डाटा को कमर्शियल उपयोग है. कहा जा रहा है कि कंपनी अपने सर्वर पर अपलोड आपकी इमेज का उपयोग व्यवसायिक उद्देश्य से कर सकती है. यह भी internet यूजर के लिए एक समस्या ही है.

फेसएप का प्रयोग क्यों खतरनाक हो सकता है?

आज मोबाइल फोन के साथ एंड्रॉयड एप्लीकेशन की सिक्योरिटी के लिए भी बायोमैट्रिक सिक्योरिटी का उपयोग किया जा रहा है. जैसे फिंगरप्रिंट स्कैनर, फेस अनलॉक और आयरिश स्कैनर. ऐसी परिस्थिति में फेसएप्प द्वारा डाटा को अपने सर्वर पर स्टोर लेना मुसीबतें पैदा कर सकता है. इस ऐप की सर्विसेज 121 देशों में है जहां एंड्रॉयड और आईओएस यूजर्स इसका उपयोग कर रहे है.

गूगल प्ले स्टोर पर फेसएप्प सबसे ज्यादा डाउनलोड किए जाने वाला एप्प बन चुका है. कहने का मतलब जब करोड़ों लोग इस एप्प का उपयोग कर रहे है तो इस कंपनी के पास कितना डाटा उपलब्ध हो चुका होगा. अगर आप के डाटा को अपने मनमाने ढंग से उपयोग करती हैं तो यह आपके लिए नुकसान भी हो सकता है

फेसएप की टर्म्स एंड कंडीशन में जो सबसे ज्यादा परेशान करने वाली बात है वो है कि फोटोस इसके सर्वर पर अपलोड होने के बाद इसकी प्रॉपर्टी बन जाएंगे और वह इन फोटोस का उपयोग अपनी मर्जी के अनुसार कहीं भी कर सकता है. कहने का मतलब सीधा सीधा यह है कि सर्वर पर अपलोड हो जाने के बाद आपका अपनी उस फोटो पर कोई अधिकार नहीं रह जायेगा. और आप कानूनी तौर पर भी उस फोटो को यूज किए जाने का विरोध भी नहीं कर सकते हैं.

भले ही आज faceapp को लेकर शोर बहुत ज्यादा हो लेकिन दूसरे अन्य एप पर भी डाटा चोरी का इल्जाम लगता आया है और इसका सबसे बड़ा कारण है बिना सोचे समझे किसी भी ऐप इंस्टॉल करने के लिए परमिशन देना. यदि किसी भी एप्लीकेशन का उपयोग कर रहे हैं तो allow बटन को लगातार बिना सोचे समझे नहीं दबाना चाहिए. यदि आपने पहले से ही कोई ऐप इंस्टॉल कर रखा है तो फोन की सेटिंग में जाकर एप परमीशन को चेक करें और जितनी जरूरत हो उतनी ही परमिशन दें. इसके अलावा फोन की लोकेशन सर्विस को जब बहुत ज्यादा आवश्यकता होने पर ही ऑन करें.

फेसएप से फोटो कैसे डिलीट करे:

आप FaceApp से नॉर्मल तरीके से अपनी फोटो को डिलीट नहीं कर सकते हैं. आप खुद से कंपनी के क्लाउड सर्वर पर उपलब्ध फोटो को डिलीट नहीं कर सकते है. लेकिन कंपनी को अपनी फोटो डिलीट करने की रिक्वेस्ट भेज सकते हैं. फोटो डिलीट करने के लिए सबसे पहले आपको एप को ओपन करना होगा फिर उसकी सेटिंग में जाना होगा यहाँ आपको “Report bug” का ऑप्शन मिलेगा उस पर क्लिक करें. क्लिक करते ही एक मेसेज बॉक्स खुल जायेगा जहां से आप अपनी फोटो डिलीट करने की रिक्वेस्ट भेज सकते हैं.

FaceApp download karna hai:

  • दोस्तों इंतना सब कुछ जानने के बाद भी FaceApp download karna chahte hai तो आपको अपने मोबाइल में प्ले स्टोर को ओपन करना होगा.
  • प्ले स्टोर को ओपन करने के बाद आपको सर्च बॉक्स में FaceApp टाइप करना होगा और search पर क्लिक करना होगा. search पर क्लिक करने के बाद जो स्क्रीन खुल के आएगी वो नीचे दी गयी image के जैसी होगा.

 

FaceApp download karna hai
FaceApp download karna hai
  • आपको लाल तीर के सामने जो FaceApp का आइकॉन दिखाई दे रहा है आपको उस पर क्लिक करना है.

क्लिक करने के बाद FaceApp download karne का Instaal लिंक आपको अगले पेज पर मिल जाएगा. बस अब आपको इंस्टाल बटन पर क्लिक करना है और आपके mobile में FaceApp download हो जाएगा. नीचे दी गयी image में देखें

FaceApp download karna hai
FaceApp download karna hai
क्यूँ इतना फेमस है FaceApp:

फेस एप सबसे पहले वर्ष 2017 में चर्चा में आया था. लेकिन साल 2019 में एक बार फिर से यह एप सुर्खियों में आ गया है इसकी वजह है इंटरनेट पर सेलिब्रिटीज की वायरल होती तस्वीरें. इसकी शुरुआत हॉलीवुड से हुई लेकिन भारत में इसकी चर्चा क्रिकेट वर्ल्ड कप के दौरान शुरू हुई.

उस दौरान फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम पर भारतीय क्रिकेटरों की  मोर्फ तस्वीरें काफी वायरल हो रही थी. इन क्रिकेटरों में विराट कोहली, महेंद्र सिंह धोनी और रोहित शर्मा से लेकर रविंद्र जडेजा तक शामिल थे फिर बॉलीवुड सेलिब्रिटीज ने भी अपनी तस्वीरों को सोशल मीडिया पर शेयर करना शुरू कर दिया. इसके बाद आम लोग भी इस ऐप का इस्तेमाल कर सोशल मीडिया पर शेयर करने लगे और यह वायरल हो गया.

Fake faceApp को Instal करने से बचे:

दोस्तों प्ले स्टोर पर और इंटरनेट पर FaceApp के नाम से बहुत सारी फेक एप्स भी उपलब्ध है. इस ऐप की लोकप्रियता के बाद इसके नाम पर कई नकली FaceApp लॉन्च कर दिए गए हैं जो दिखते तो इसी एप जैसे से हैं. लेकिन यह फोन में वायरस भेजने का काम करते है. हाल में “Kaspersky” लैब के सिक्योरिटी रिसर्चर ने कहा है कि सिर्फ 48 घंटे में ही 500 से ज्यादा ऐसे फोन मिले जिनमें अनऑफिशियल सोर्सेस से फेसएप के नाम पर नकली ऐप इंस्टॉल किया गया था.

इनमें मोबिडेश नाम का एक एडवेयर भी मिला. एडवेयर इंस्टालेशन में परेशानी दिखाकर उसे डिलीट कर देता है. लेकिन यह आपके फोन में छुप कर बैठ जाता है. बाद में यही एडवर्ड बिना इजाजत आपको विज्ञापन दिखाने का काम करता है यह एक तरीके का वायरस है इसलिए किसी भी नकली फेसएप के नाम से जो फेक एप्लीकेशन चल रही है उनको इंस्टॉल करने से बचें.

निष्कर्ष :

फेसएप मनोरंजन के लिए एक अच्छी एप है लेकिन यह सुरक्षा कि द्रष्टिकोण से आपके लिए हानिकारक हो सकता है. सुरक्षा के नजरिये से इसके दो पहलु है. पहला इसका डाटा संरक्षण दूसरा तरीका उदाहरण से समझते है.

मान लीजिये इस एप का प्रयोग कर करके किसी ने सोशल मीडिया पर लड़की के नाम से एक नकली अकाउंट बनाया और faceApp की मदद से उसने अपनी पिक्चर को लड़की की इमेज में कन्वर्ट कर दिया. फिर तो आगे आप समझदार है कुछ भी हो सकता है ये technology है.

कुल मिला के मनोरंजन के हिसाब से यह बहुत ही मजेदार है. लेकिन सुरक्षा बहुत जरुरी है. और सुरक्षा के लिए आपका जागरूक होना भी बहुत जरुरी है. हमारे आज के लिख का उद्देशय आपको जागरूक करना है. किसी भी काम को सोच समझ कर करना चाहिए क्यूंकि technology फायदे के साथ नुकसान करने में भी बहुत सक्षम है.

आशा करता हूँ आपको मेरे द्वारा दी गयी अच्छी लगी होगी. इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर कर उनको भी इस एप के बारे में जागरूक करे. तो दोस्तों नयी जानकारी आने तक जय हिन्द, जिद भारत, जय भारत माता.

#faceapp #download

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here